कितना ख़ामोश यह पानी है

कितना ख़ामोश यह पानी है |सबकी अपनी-अपनी कहानी है | कोई ना जाने इसका राज़,यह कहानी किसी ने ना जानी है | जो दिल में है वह कह दो आज |यहाँ कोई नहीं जो अंतर्यामी है | प्यार, इश्क, मोहब्बत है काफ़ी,ज़िंदगी फानी है, आनी है, जानी है | यह ग़ज़ल अजब है पर मेरी … Continue reading कितना ख़ामोश यह पानी है

करके देख

अपने आप को खुद के हवाले करके देख लिया |अब अपने आप को साक़ी के हवाले करके देख | तू जीता-मरता रहा, किसी और की मर्ज़ी से,अब कुछ नया, कुछ नए तरीके से करके देख | बहुत पी लिए अश्क़ तूने जाम समझकर,अब जान अपनी उस जाम के भरोसे करके देख | कितना कुछ बाकी … Continue reading करके देख

शायद

याद नहीं, स्कूल था या कॉलेज |शायद, कोई एक, या दोनों,शायद, ज़िंदगी ज़िंदा होना सीख रही थी | शायद, पहला प्यार था,शायद, पहला करार था,शायद, धड़कन धड़कना सीख रही थी | उसके नाम का पहला अक्षर याद है |शायद, उसी से बिस्मिल्लाह करता था,शायद, वही मेरी पूजा थी,शायद, परस्तिश इबादत सीख रही थी | हम … Continue reading शायद

ज़यादा मज़ा आया

ज़िंदगी का जब मज़ाक बनाया,ज़यादा मज़ा आया |दर्द-ओ-ग़म का जब मज़ाक बनाया,ज़यादा मज़ा आया | रोने से कुछ नहीं हुआ हासिल,रोने का जब मज़ाक बनाया,ज़यादा मज़ा आया | एक अर्जे से दिल वीरान था |तन्हाई का जब मज़ाक बनाया,ज़यादा मज़ा आया | इश्क़-नफरत, इल्म-गफ़लत, कैफ़ियात-इबादत,दोनों में उलझन थी |दोनों का जब मज़ाक बनाया,ज़यादा मज़ा आया … Continue reading ज़यादा मज़ा आया

Ghazal, Fame and Tragedy

I don't think any music lover would need the introduction of Jagit Singh and Chitra Singh. This duo was the most popular one in the 70s-80s in the world of non-film music; especially ghazal. Jagjit Singh is the man who simplified and popularized this genre of music. https://www.youtube.com/watch?v=__uS4BJ9MK8 I don't know of any family who didn't … Continue reading Ghazal, Fame and Tragedy

यह ज़मीन कितनी भूखी है

कितना बड़ा ज़ख्म दिया गहरा | यह ज़मीन खा गयी यार मेरा | वक़्त की कितनी बद्सलुखी है | यह ज़मीन कितनी भूखी है | ना जाने कितने थे वह कलंदर, सबको ले लिया अपने सीने के अंदर | इसकी अदा कितनी रूखी है | यह ज़मीन कितनी भूखी है | अब नाजाने किसकी बारी … Continue reading यह ज़मीन कितनी भूखी है

The Never-ending Ghazal Wave of India

Ghazal is a form of poetry. It’s my favorite and I remember listening to this poetry form since my childhood; thanks to my father. A ghazal may be understood as a poetic expression of both the pain of loss or separation and the beauty of love; despite that pain. But a ghazal has several facets and has … Continue reading The Never-ending Ghazal Wave of India

इसलिए यह ग़ज़ल सुनाने आया हूँ

कुछ फुल सुहाने लाया हूँ | तुम्हे मनाने आया हूँ | मैं जानता हूँ के तुम कौन हो, इसलिए यह ग़ज़ल सुनाने आया हूँ | शर्माओगी तो ज़रूर, लाज़मी है | घब्राओगी भी थोडा, शायद ! पर सुरूर तो बोहोत आयेगा जनाब, तुमको, तुमसे थोडा सा चुराने आया हूँ | इसलिए ये ग़ज़ल सुनाने आया … Continue reading इसलिए यह ग़ज़ल सुनाने आया हूँ

ज़िंदगी यूँ है फसी

हालत पर हमारी आती है उन्हें हँसी | क्या करें ? ज़िंदगी यूँ है फसी | ना है आँखों में आँसू, ना होठों पे हँसी, ना रात को चैन, ना दिन को सुकून | जलाते रहते है अपने दिल का खून | पीसते रहते है अपने आप में हम, दिल वीरान है, सौ है ग़म … Continue reading ज़िंदगी यूँ है फसी

ज़िंदगी से कोई फैसला हुआ ही नहीं

जिसने मुझको चाहा उसका ना हो सका, जिसे मैंने चाहा वह मिला ही नहीं | फिर आगे हौसला हुआ ही नहीं, ज़िंदगी से कोई फैसला हुआ ही नहीं | एक रात जो हर दिन को खा गयी | नाजाने अकस्मात कहाँ से आ गयी ? ऐसा बंजर किया चमकते गुलिस्तां को, दरख्तों पे फिर घोसला … Continue reading ज़िंदगी से कोई फैसला हुआ ही नहीं

ज़िंदगी मुझे तेरा मलाल

ज़िंदगी मुझे तेरा मलाल तो है | मगर मुझे तेरा ख़याल तो है | तूने मेरा ही घर चुना जलाने को, मुझे तुझसे यह सवाल तो है | ज़िंदगी मुझे तेरा मलाल तो है | अँधेरा कब से मेरे इंतज़ार में है | मेरे हाथ में अभी मशाल तो है | ज़िंदगी मुझे तेरा मलाल … Continue reading ज़िंदगी मुझे तेरा मलाल

ज़िंदगी हमे ये कहाँ ले आयी ?

ज़िंदगी हमे यह कहाँ ले आयी ?खुश थे जहाँ से ले आयी |गुज़रे दिनों की धुप थी क़बूल,क्यों बारिश कहाँ से ले आयी ? किसी अटके हुए पल की तरह |किसी माथे की बल की तरह |किसी सवाल-ए-बेहाल की तरह|किसी जले हुए काल की तरह | गोया खींच के वहाँ से ले आयी,खुश थे जहाँ से ले … Continue reading ज़िंदगी हमे ये कहाँ ले आयी ?

यही मेरी रज़ा है

मेरे ख़ुदा, यही मेरी रज़ा है | मेरी माफ़ी ही मेरी सज़ा है | रिहाई में काफी तनहा था, अब यही सज़ा में मज़ा है | सिर्फ एक इशारे ने बदल दिया, क्या खूबसूरत ये फ़िज़ा है ? बना रखी थी दुनिया को रखैल, अब मेरी नियत बिलकुल पाकिज़ा है | पहले एक ही पत्थर … Continue reading यही मेरी रज़ा है

याद है मुझे

याद है मुझे, वह मुलाक़ात आखरी थी | तेरे-मेरे बीच में वह बात आखरी थी | तूने मुझे उठवा लिया दुनिया से, मुझे याद है, वह कायनात आखरी थी | तेरे ख़ल्क़ मैं नागवार ही रहा, तेरी बनायीं हुई मख़लूक़ात आखरी थी | तेरे ही जलवों पर सब लूटा दिया, मुझे याद है, वह इल्तिफ़ात … Continue reading याद है मुझे

या तुम थी ?

यह मेरे बिस्तर पे सिलवटें कैसी, रात का जादू था, या तुम थी ? आ रही है जाबाज़ा दिलरूबा खुशबू, रात का जादू था, या तुम थी ? इत्र से भीगे मोहब्बत में, हर सांस से पिघल गया तन | लोहा पिघल मोम हुआ ज़मीन पर, रात का जादू था, या तुम थी ? कितने … Continue reading या तुम थी ?

वह सपना तेरा था

रंगों से बना एक सपना मेरा था | यक़ीन है, वह सपना तेरा था | लाल उँगलियों से बनायीं था जो चित्र, यक़ीन है, वह सपना तेरा था | हर रंग में मेरे सपने खिल गए | कहीं राह में हम-तुम मिल गए | आँखें बंद करते ही जो सामने आया,यक़ीन है, वह सपना तेरा … Continue reading वह सपना तेरा था

उफ़क़ के उस पार

चांदिनी रात है, सोने की कायनात है, एक नया जहान है उस पार | मुस्कुराते दिन है, ख़ुशी के पल है, हर राह की मंज़िल है | उफ़क़ के उस पार | कौन जिये इस बेक़द्र जहान में बेसबब ? जाने कहाँ जाएँ कैसे, कहाँ और कब ? आओ इंसानियत को ले जाते हैं दूर … Continue reading उफ़क़ के उस पार

तुम वही हो ना ?

तुम वही हो ना ? वही हो ना ? जो गीत थी, प्रीत थी | संग थी, तंग थी | आती थी, जाती थी | मेरे दिल तो तडपाती थी | तुम वही हो ना ? वही हो ना ? आँख का नूर, दिल से क्रूर | थोड़ी पास, थोड़ी दूर | कुछ कायर, कुछ-कुछ … Continue reading तुम वही हो ना ?

तुझे मिलने को चाहे यह मन

आज मौसम है सुहाना, आजा करके कोई बहाना | तुझे मिलने को चाहे यह मन, तुझे छूने को चाहे यह मन | आजा, यूँ ना दिल दुखाना, तेरा मर जायेगा दीवाना |तुझे मिलने को चाहे यह मन,तुझे छूने को चाहे यह मन | सुन यह सदा फ़िज़ाओं की, खिला दे मेरी यह ज़िंदगी खिज़ाओं सी … Continue reading तुझे मिलने को चाहे यह मन

तुम ही मिलते तो अच्छा था

जहाँ फुल खिलते है, वहीँ खिलते तो अच्छा था | तुम से ही प्यार किया था, तुम ही मिलते तो अच्छा था | तुम ही हमसफ़र बन कर, साथ चलते तो अच्छा था | तुम से ही प्यार किया था, तुम ही मिलते तो अच्छा था | ज़ख्म जो तेरे प्यार के, जल्दी ही सिलते … Continue reading तुम ही मिलते तो अच्छा था

तुझसे पहले भी

मैंने देखें है कईं ज़माने रंगों के, मैंने हर साल कईं होली खेली थी | तू नहीं मेरे जीवन में पहली, तुझसे पहले भी एक पहेली थी | हर शाम शमा बुझती थी, हर शाम पिघलता था लोहा मेरा | हर शाम बदन की खुशबू आती, हर शाम बिस्तर पर सजता सेहरा मेरा | मैं … Continue reading तुझसे पहले भी

तुझसे मिलने की आरज़ू

तुझसे मिलने की आरज़ू तो बहुत थी, लेकिन, तेरे दरवाज़े तक आये हम औए रुक गए | सीना चौड़ा था तेरे इश्क़ में, लेकिन, मार गुरूर की ऐसी पड़ी के झुक गए | वह सामने बैठा है, मेरा नहीं, लेकिन, क़यामत ऐसी के टूट सब ताल्लुक गए | काम ना आयी सब सीखी तीरंदाज़ी अजब, क़ातिल … Continue reading तुझसे मिलने की आरज़ू

तुझे देखा

कईं बार मैंने तुझे देखा, सोहने यार मैंने तुझे देखा | पर्बत की ऊचाइयों में, समुंदर की गहराईयों में तुझे देखा | जाम-ए-फना-ए-बेखुदी पीकर, पैमाने में तुझे देखा | इसतराब-ए-इंतज़ार में, मैंने हवाओं में तुझे देखा | फूलों की खुशबू में, माहताब की चांदिनी में तुझे देखा | धड़कन और साँसों में देखा, पंछी बन … Continue reading तुझे देखा

तू ही मेरा प्यार

यार, यार, यार, तुही मेरा यार | तू ही मेरी ज़िंदगी, तू ही मेरा प्यार | तेरी नज़रों में क़ैद रहुँ, यही मेरी आरज़ू, तू ही मेरी ज़िंदगी, तू ही मेरा प्यार | मेरी साँसों में है तेरी खुशबू , तू ही मेरे जीवन का सार | हाथ ना छूटे, साथ न छूटे,तू ही मेरी … Continue reading तू ही मेरा प्यार

तो क्या होता ?

कागज़ के पंख लगा कर, मेरा प्यार वाला पंछी गिरता नहीं तो क्या होता ? तेरी मोहब्बत को बना कर ख़ुदा, लगाया सीने से मैंने खंजर नहीं चुभता तो क्या होता ? हथेली पर लगी मेहँदी, इंसान के जैसे ही फना हो गयी नीली नहीं पड़ती तो क्या होता ? अच्छा होता, सह लेता उनकी … Continue reading तो क्या होता ?

तेरा कुछ

तेरा कुछ जायेगा नहीं, मेरा कुछ रहेगा नहीं | ऐसा क्यों सोचते हो की ज़माना कुछ कहेगा नहीं | आखिर सामने आ ही जायेगा वो कतरा बनकर, पानी ही सही, बह ही जाएगा, कुछ सहेगा नहीं | छलक ही जाएगा घड़ा गर ज़्यादा भरोगे, ऐसा तो होता ही नहीं के कुछ बहेगा नहीं | बात … Continue reading तेरा कुछ

तवायफ़

मैं हुँ तवायफ़, तवायफ़ मेरा नाम | दुनिया में हुँ इसी नाम से बदनाम | यहाँ की सीढ़ियाँ किसी घर में नहीं उतरती, यह बाज़ार और यह कोठा है मेरा इनाम | यह मर्द-ए-बाजार की मिलकियत है मुजरा , बिस्तर का सफर ग़ज़ल और कथक से गुज़रा | मेरे आँगन की मिटटी से बनती देवी … Continue reading तवायफ़

तलाश

सुख की चादर ओढ़े जहाँ ज़िंदगी मुस्कुराये | अरमानों का खून ना हो, हर सपना साकार हो जाए | जहाँ अमन और प्रेम से भरा हो आकाश | एक ऐसे ही जहान की मुझे है तलाश | हम तो जहाँ गए मिली पत्थर की मूरत | देखा तो पाया इंसान में हैवान की सूरत | … Continue reading तलाश

सोचो

सोचो अगर बर्फ काली होती, गंगा खाली होती | कितना मज़ा आता अगर, अमीरी कमज़ोर और गरीबी शक्तिशाली होती | सोचो अगर दिल की जेब खाली होती, ना होठों पर गाली होती | कितना मज़ा आता अगर, पृथ्वी मेरी बीवी और चाँद मेरी साली होती | सोचो अगर पूरी थाली होती, खाने को रोटी रुमाली … Continue reading सोचो

शहर में आपके

सुना है बहुत वफ़ा है शहर में आपके | ऐसा भी क्या जादू है शहर में आपके ? मैंने तो आज़मा ली अपनी किस्मत वहाँ भी, पर संग दिल सनम है शहर में आपके | सुना है वहाँ चांदी के कमल खिलते है | पर वहाँ सादगी भरे चेहरे कम मिलते है | सुना है … Continue reading शहर में आपके

शहर है या चकला ?

जिसको देखो चला आये | यह शहर है या चकला ? खाये-पीये बत्ती बुझाए | यह शहर है या चकला ? जो चाहे वैसे खाये | यह शहर है या चकला ? इसको एक बिस्तर बनाये | यह शहर है या चकला ?

शराबी-शराबी

मुझे शराबी-शराबी मत कहो | आदमी मजबूरी में पीता है | चाहे कितनी भी अग्निपरीक्षा दे दे, दुनिया की नज़र में तो बुरी सीता है | एक ही इंसान हरिउल्लाह मिला था, कलयुग में बेचारा बेताब ही जीता है | तू भी ज्ञानी, मैं भी ज्ञानी, क्या फर्क ? किसी की क़ुरान और मेरी किताब … Continue reading शराबी-शराबी

सलाम मुंबई

सर झुकेगा नही, लहू से नहाकर आएंगे | लोहे की दीवार तोड़ कर, मंज़िल तक पहुँच जायेंगे | इंसानियत है तलवार हमारी, कभी ना हम घबराएंगे | ए ख़ुदा, तेरे घर में अपना नाम-ए-शहर रोशन कर आएंगे | सलाम मुंबई !

रोज़ उनसे मुलाक़ात

रोज़ उनसे मुलाक़ात होती है | कैसे हो अजब — बस यही बात होती है | तर्क-ए-तालुकात ही है लेकिन, ना उनकी, ना हमारी रात सोती है | जहाँ हज़ार दिलों की लाश गिरी हो | वहीँ मोहब्बत की शिनात होती है | मेरा घर मिटटी का है इसलिए, मेरे ही यहाँ बरसात होती है … Continue reading रोज़ उनसे मुलाक़ात

रंज की महक

रंज की महक बहुत नबील होती है | यह बहुत कम लोगों को नसीब होती है | क्या मज़ा जीने में बिना दर्द के ? दर्द की परछाई बड़ी अज़ीम होती है | आज इस महफ़िल में फूल नहीं तो क्या, कांटे ही सही ! क्योंकि फूल तो मुरझा जायेंगे पर कांटे नहीं | काँटों … Continue reading रंज की महक

क़ातिल

हाय ! क़ातिल | अदाएं क़ातिल | जी रहे है हम तो, ना जाने यह हम तो, कब फ़ना हो जाएँ | सदायें क़ातिल | अदाएं क़ातिल | आजा ओढ़ ले, जिस्म में दौड़ ले, किसी को नज़र ना आयें | हवाएं क़ातिल | अदाएं क़ातिल |

प्यार हो जाएगा

खेलो ना दिल से मेरे, शीशा है टूट जाएगा | इतने प्यार से ना देखो मुझे, प्यार हो जाएगा | चलते-चलते राह में वह मिल गया, अच्छा लगा | रुख़्सार पर उसकी परेशानी थी पर सच्चा लगा | उसने मुझे जाना, मैंने उसे, हाँ, शायद वही थी सोचा था जिसे | फिर किस्मत ने वफ़ा … Continue reading प्यार हो जाएगा

पत्ता-पत्ता हिल गया

पत्ता-पत्ता हिल गया | दिल हमारा खिल गया | सजदा-ए-यार में, पैर मेरा छिल गया | फिर उंस की बरसात हुई, बेवफा अपना दिल गया | कोई ऊम्फ सी आज है, लगता है वह मिल गया | उसने यूँ छुआ मुझे, हर ज़ख्म सील गया | जाने क्या क़यामत हुई, वह पत्थर हिल गया | … Continue reading पत्ता-पत्ता हिल गया

नज़र दूर तक जाती है

नज़र दूर तक जाती है, फिर भी लगता है के कुछ बाकी है | सैर-ए-गुलशन तो किये बहुत, अभी सारी कायनात बाकी है | मैं कुछ भूला नहीं, दिल पे उल्फत का निशान अभी बाकी है | अभी तो सिर्फ तूफ़ान आया है दोस्त, क़यामत तो अभी बाकी है | एक सितम और सही, अभी … Continue reading नज़र दूर तक जाती है

नहीं था

आज के दिन का इंतज़ार नहीं था | मुझे भी तुमसे प्यार नहीं था | नातरस ही सुनते थे तुम फरियाद मेरी, तुम्हारे चेहरे पर अबसार नहीं था | मुफ्त में ही तूने मुझे जुगनू बना दिया, मेरी ज़िंदगी में इतना अफसार नहीं था | अच्छी साज़िश करके तूने मुझपर बरसाया, मुझ गरीब पर पास … Continue reading नहीं था

नहीं कर सकते

हम जानते है पर हम वह काम नहीं कर सकते | अब यह हाथ किसी और के लिए नहीं बड़ सकते | हमे खबर है के एक साथ या सहारा चाहिए, पर ये होंठ अब फिर से वही बात नहीं कर सकते | उनकी यादों की सौगात है हमारे पास, पर उन्हें हम जला नहीं … Continue reading नहीं कर सकते

नहीं देखा

कभी कोई नयी ख़ुशी को नहीं देखा | तेरे बाद फिर किसी और को नहीं देखा | सब ही मसरूफ थे अपने भ्रम में, अश्क़-ए-साद को किसी ने नहीं देखा | हर आँखें देख रही थी आतिशबाज़ी, मेरी नज़र की ओर किसी ने नहीं देखा | सिर्फ मशहूर हुए राँझा और महिवाल, मेरी जुर्रत को … Continue reading नहीं देखा

मुअम्मा

मैं भी मुअम्मा, तू भी मुअम्मा | जान भी मुअम्मा, रूह भी मुअम्मा | क्या नाज़ करूँ हाल-ए-ज़ीस्त का ? हक़ीक़त भी मुअम्मा, आरज़ू भी मुअम्मा | रात भी मुअम्मा, बात भी मुअम्मा | ख़ुदा भी मुअम्मा, कायनात भी मुअम्मा | इस जगह का हिसाब कितना अजब है | सब लोग मुअम्मा, हर तरफ़ मुअम्मा … Continue reading मुअम्मा

मुझे प्रश्न करे

मुझे प्रश्न करे नील ध्रुव तारा, और कितने दिन रहूँगा मैं बेसहारा | जवाब कोई भी ना दे सका मैं सिर्फ, राह ढूंढते बीत गया यह जीवन सारा | ना जाने किसने यह प्रीत की लौ जलायी, देख के सूरज की रोशिनी भी शरमाई | अपने ही साये के पीछे घूमता रहा, एक दिन देखा … Continue reading मुझे प्रश्न करे

मुझे नफ़रत है

मुझे नफ़रत है, तेरे होठों के जलते सवालों से | मुझे नफ़रत है, तेरे छूट जाने के ख्यालों से | मुझे नफ़रत है, तेरी आधी-अधूरी मुलक़ातों से | मुझे नफ़रत है, तेरी सुलगती हुई बातों से | मुझे नफ़रत है, तेरे यह शक की आदतों से | मुझे नफ़रत है, तेरी यह अंधी इबादतों से … Continue reading मुझे नफ़रत है

चुरा लाया हूँ मैं

मेरे यादों के झरोखे से, एक पल चुरा लाया हूँ मैं | इसको रखूँगा संभालकर, जो कल चुरा लाया हूँ मैं | बड़े जतन से पेड़ पे चढ़कर, दो-चार आम तोड़ लिए है | खाते है मिलकर यार, चल, चुरा लाया हूँ मैं | आजकल काफ़ी वीराना है ? शायद माया जाल का ज़माना है … Continue reading चुरा लाया हूँ मैं

अभी इंसान हो

दुखी हो ? परेशान हो ? पशेमान हो ? डर लगता है ? सर फटता है? दम घुटता है ? प्रेम रोग है ? प्यारा भोग है ? कठिन योग है ? नींद नहीं आती ? याद नहीं जाती ? चिंता बोहोत सताती ? बिमारी है ? बुढ़ापा है ? मृत्यु है ? शत्रु है … Continue reading अभी इंसान हो

मुझे माफ़ करना माँ

तूने लाख समझाया पर मैं गांधीवादी बन गया | मुझे माफ़ करना माँ, मैं आतंकवादी बन गया | मुझे लोग कहते है दुश्मनी का दुश्मन, अधर्म ज़माने में, मैं धर्मवादी बन गया | मुझे माफ़ करना माँ, मैं आतंकवादी बन गया | नफरत है लोगों को मेरे पाक इरादों से, इस भ्रष्ट समाज में समाजवादी … Continue reading मुझे माफ़ करना माँ

मुझे होश नहीं

नौ दिल-ए-गिरफ्तार हूँ, मुझे होश नहीं | मैं तेरा प्यार हूँ, मुझे होश नहीं | कोई साज़ छेड़ मिलान का, ए मेरे फनकार, मैं इतना बेक़रार हूँ, मुझे होश नहीं | ना रोके मुझे कोई बंधन बन कर ज़ंजीर, मैं हवा-ए-फरार हूँ, मुझे होश नहीं | अश्क़-ए-मुस्तक़बिल करेगा, बीमार-ए-दिल का इलाज, मैं खुद नागवार हूँ, … Continue reading मुझे होश नहीं

मिलता नहीं रास्ता

कहाँ जाएगा मुसाफिर ? मिलता नहीं रास्ता | किस जानिब चलें ज़ीस्त ? मिलता नहीं रास्ता | कितनी झूठी कसम, और वादा कितना है सस्ता, कैसे सफर मुक्कमल हो ? मिलता नहीं रास्ता | नीचे ज़ुल्म-ए-ज़लज़ला, ऊपर खुदा हँसता, किसके पीछे चलें ? मिलता नहीं रास्ता | उसके हाथ में है तलवार जिसे दिया गुलदस्ता, … Continue reading मिलता नहीं रास्ता

मियां

पहले रब्ब का नाम लो, फ़िर करो क़बूल मियां | सबसे पहला आशिक़ वह, फिर वह नबी-रसूल मियां | झुका के सर उल्फत में, करूँ वो बंदगी | वक़्त सारा परस्तिश में, ऐसी गुज़रे ज़िंदगी मियां | फ़िक्र की माशूका है क़यामत, ज़िंदा को पहनाती कफ़न | लेहद तो फिर भी है शुक्र, होते सिर्फ … Continue reading मियां

मेरे जैसा ही था

पाप की गोद से जन्मा एक तारा, वह तारा जो मेरे जैसा ही था | वह भी था संसार से हारा,वह तारा मेरे जैसा ही था | भीख और उधार थी उसकी ज़िंदगी, उसका हिसाब मेरे जैसा ही था | दुनिया के एक हज़ार सवालों पर, उसका हर जवाब मेरे जैसा ही था | हरी … Continue reading मेरे जैसा ही था

मेरा भारत महान ?

चुल्लू भर पीने को पानी नहीं | पेट भर खाने को नहीं धान | क्या सच में है मेरा भारत महान ? चाँद पर यंत्र भेज दिया, सस्ते में बिकता है ईमान | क्या सच में है मेरा भारत महान ? दूध से है पत्थर नहाता, भूखा रहे रहीम, प्यासा रहे राम | क्या सच … Continue reading मेरा भारत महान ?

मर जाऊंगा

इतनी तारीफ़ ना करो, मर जाऊंगा | बस ! और प्यार नहीं, मर जाऊंगा | अभी और नहीं पी सकता, बस दोस्त ! अभी घर जाऊँगा | इतनी ज़ोर लगाने की ज़रुरत नहीं, कच्ची दीवार हूँ, छूते ही गिर जाऊँगा | समेट लो ना मुझे मुट्ठी में, शीशा हूँ ना, बिखर जाऊँगा | ऐसे ही … Continue reading मर जाऊंगा

मन तो चाहता ही रहा

मन तो चाहता ही रहा | मन तो चाहता ही रहा | सात सुरों के गीत गाता ही रहा | मन तो चाहता ही रहा | मन तो चाहता ही रहा | रक़्स की रात में, हर शख़्श की बात में, ना जाने क्यों, जाने क्यों ? रात भर याद आता ही रहा | मन … Continue reading मन तो चाहता ही रहा

मर रहा है

क्या हाल बताऊँ देश का ? देश में लगता है भगवान मर रहा है | वहाँ मेरा किसान मर रहा है, वहाँ मेरा जवान मर रहा है | कौनसे मज़हब की बात बताऊँ ? मज़हब तो भूखे गिद् खा गए | वहाँ मेरा हिंदू मर रहा है, वहाँ मेरा मुसल्मान मर रहा है हर एक … Continue reading मर रहा है

मैंने काला रंग चढ़ा रखा है

दुनिया ने खूब पंगा पड़ा रखा है, इसलिए मैंने काला रंग चढ़ा रखा है | बेकार ही ज़िंदगी को मुअम्मा बना रखा है, इसलिए मैंने काला रंग चढ़ा रखा है | दिल में इतनी नफरत का लोहा जड़ा रखा है, इसलिए मैंने काला रंग चढ़ा रखा है | सब ने सफ़ेद रंग में अपना रंग … Continue reading मैंने काला रंग चढ़ा रखा है

मैं तुम्हे नहीं बोलता

मैं तुम्हे नहीं बोलता, तुम मुझे क्यों बोलते हो ? छोडो मुझे, मेरी ज़िंदगी में क्यों ज़हर घोलते हो ? मैं तो तुम्हे नहीं कहता बदलने को ? तुम मुझे क्यों बदलने को बोलते हो ? मैं तुम्हे नहीं बोलता, तुम मुझे क्यों बोलते हो ? मेरे दिल की जानिब क्या ताकते रहते हो ? … Continue reading मैं तुम्हे नहीं बोलता

मैं रक़्क़ासा

मैं रक़्क़ासा मेरे यार की | मैं शौक़ीन मेरे प्यार की | मेरी आँखें गोया हज़ार माहताब, जन्नत अधूरी मिसाल मेरे निगार की | शराब ने सीखा मुझसे पीना, नशा बात करता मेरे ख़ुमार की | मुझसे है यह कायनात ज़ायेदा, दीवाने रह तकते मेरे इक़रार की | तेरा-मेरा मिलना तो तय था, देख दास्ताँ … Continue reading मैं रक़्क़ासा

मैं पशेमान हूँ, मैं इंसान हूँ

मैं पशेमान हूँ, मैं इंसान हूँ | मैं पशेमान हूँ, मैं इंसान हूँ | मैं घायल, मैं बेलगाम हूँ | ऐसा भी नहीं के बेज़ुबान हूँ | मैं पशेमान हूँ, मैं इंसान हूँ | ना मैं काबा, ना कब्रिस्तान हूँ | ना दरिया, ना रेगिस्तान हूँ | मैं पशेमान हूँ, मैं इंसान हूँ | मैं ना हिंदू, ना मुसल्मान हूँ | … Continue reading मैं पशेमान हूँ, मैं इंसान हूँ

मैं नहीं जानता

जिसका कोई नहीं उसका कौन है, मैं नहीं जानता | मेरे नसीब का मालिक कौन है, मैं नहीं जानता | कौन अल्लाह ? कौन भगवान ? मुझे नहीं मालूम | ना पुराण, ना क़ुरान कौन है, मैं नहीं जानता | मुझे तो सिर्फ घर समझ आता है | क्या हिंदुस्तान ? क्या पाकिस्तान ? मैं … Continue reading मैं नहीं जानता

मैं खुनी हूँ, मैं खुनी

मैं खूनी हूँ, मैं खूनी | मैं खूनी हूँ, मैं खूनी | मैंने क़त्ल किया अरमानों का, मैंने क़त्ल किया फरमानों का, मैं खुद ही खुद का क़ातिल, मैं खूनी हूँ, मैं खूनी | मेरा चार नहीं दो-दूनी, मैं खूनी हूँ, मैं खूनी | मुझसे निग़ाहें नजर-बट्टू, मेरे दिमाग में पागल लट्टू, मैं शमशान का … Continue reading मैं खुनी हूँ, मैं खुनी

मैं इंसान हूँ

मैं इंसान हूँ, मेरा मज़हब कोई नहीं है | मैं इंसान हूँ, इसमें गज़ब कोई नहीं है | मैं ही मैं हूँ, चारों जानिब, मैं ही ख़ुदा हूँ, मेरा रब्ब कोई नहीं है | मैंने बनाया और फिर मैंने मिटाया | मैंने काटा और मैंने ही कटाया | मैं ही क़त्ल हूँ, क़ातिल भी मैं, … Continue reading मैं इंसान हूँ

मैं ही गुन्हेगार नहीं

तुम भी शामिल हो, मैं ही गुन्हेगार नहीं | तुम क्यों मेहमिल हो ? मैं ही गुन्हेगार नहीं | एक वार तुमने किया, एक वार किया मैंने, तुम भी घायल हो, मैं ही फ़िगार नहीं | मिले क्यों मुझे ही कफ़न का इनाम खुदा से ? तुम भी बिस्मिल हो, मैं ही निगार नहीं | … Continue reading मैं ही गुन्हेगार नहीं

मैं आइना हूँ

मैं आइना हूँ, मैं सच बोलता हूँ आपकी छवि बताता हूँ, सच और झूठ तोलता हूँ, मैं आइना हूँ, मैं सच बोलता हूँ | भला करो, भला होगा, बुरा करो, बुरा होगा, मैं लोगों को ये बात याद दिलाता हूँ | मैं आइना हूँ, मैं सच बोलता हूँ | मैं जोड़ता हूँ इंसान को इंसान … Continue reading मैं आइना हूँ

यूँही

खत्म कर दो सब प्यार के किस्से तुम, यूँही | जी लेने दो मुझे ख्वाब-ए-गफलत में, यूँही | तुम आज आयी हो जब मेरे हाथ खाली है ? ले जाओ और कुछ नहीं तो मेरी जान तुम, यूँही | इन सपनों से कोई पूछे की नींद से दोस्ती क्यों है ? इस मायूसी से कोई … Continue reading यूँही

यह उस वक़्त की बात है

यह उस वक़्त की बात है, जब ज़िंदगी अंजान थी | यह उस वक़्त की बात है, जब ज़िंदगी बेजान थी | दुनिया का पहला निवाला चखा था हाथों से, वक़्त की बात है, जब ज़िंदगी हैरान थी | हम दोनों ने एक ही थाली से खाया था निवाला, यह उस वक़्त की बात है, … Continue reading यह उस वक़्त की बात है

मैं आदमी

आज़ाद देश का ग़ुलाम बंदा हूँ | मैं इंसान नहीं, एक धंधा हूँ | चुप रहो तो कहते है मुझे खुदगर्ज़, लड़ता हुँ तो कहते है के खून गंदा है | कहाँ है जलाना मेरे बस में ? मैं सूरज नहीं, चंदा हूँ | मुझे में नहीं है झूठ बोलने का ढंग, मैं आदमी ही … Continue reading मैं आदमी

समझ नहीं आता

वह मुझे समझ नहीं पाते, मैं उन्हें समझ नहीं पाता |यह कैसा रिश्ता है अजब ? मुझे समझ नहीं आता | ख़ुदामंडी में बहुत से खुदा बिक रहे है, कौनसा ख़ुदा खरीदूं ? मुझे समझ नहीं आता | मुद्दत से उनके दिल से बात करने की कोशिश की, किस अदा से बयां करूँ ? मुझे … Continue reading समझ नहीं आता

नेता

परसों तुझे टीवी पर देखा, अरे ! तू तो कमाल बन गया | तू तो बादशाह था, साला अभी हमाल बन गया | सारे देश को बेचने का बोझ तूने ही उठा लिया | सारे बचत का पैसा तूने अकेले ही लूटा दिया | गज़ब है ! तेरे हाथ में पेन होता तो टैगोर बन … Continue reading नेता

मुझे वह सब याद है

मुझे वह सब है याद जो कभी हुआ ही नहीं |वह एक आशियाँ आबाद जो कभी हुआ ही नहीं | मुझे वह सब याद है तेरे-मेरे तालुकात, और वह एक इत्तिहाद जो कभी हुआ ही नहीं | मुझे वह सब याद है तेरी हिचकिचाहट, और वह संग, फुवाद जो कभी हुआ ही नहीं | मुझे … Continue reading मुझे वह सब याद है

मैखाने में

एक शमा जलाये रखना मैखाने में | मैं आऊंगा रात मैखाने में | उनकी याद है दिल में, उनकी साँसों में मेरी साँस है | उनकी आदत है बेइन्तहां मुझे, उनकी तस्वीर लगाये रखना मैखाने में | प्यार के गीत मैं गुनगुनाता हूँ सदा, मौत ने मेरी बनाया है मुझे रिंद-ए-मैक़दा | उनकी बदन की … Continue reading मैखाने में

मेरे गाँव की बात

दिन हो, या हो चांदिनी रात, बजते ताशे जैसे दूल्हे की बारात | ऐसा प्यारा गाँव है मेरा और मेरे गाँव की बात | दिन में सूरज की पूजा होती, रात में होता काम दूजा | सभी मिलकर रहते है, ज्ञानी, पंडित हो या खोजा | लस्सी और शराब की नदियाँ बहती है, ऐसी है … Continue reading मेरे गाँव की बात

मेरा परिचय

मैं हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई हूँ | मैं पंडित, मौलवी, मैं कसाई हूँ | मुझसे ना पूछो ज़ात मेरी, मैं वह फटे कपडे की सिलाई हूँ | अलग-अलग है मेरे रूप जगत में, कभी मैं किसान, कभी सिपाही हूँ | मैं दिवाली हूँ, मैं ईद हूँ | कभी मैं बहन, कभी भाई हूँ | किसी … Continue reading मेरा परिचय

लेकिन

कुछ मैं भी करता हलाल लेकिन | जीवन में रहा सिर्फ मलाल लेकिन | करता मैं भी दुनिया मैं मसीहाई, अजब ही रहा मैं फिलहाल लेकिन | बन जाते मेरे भी हाथ देने वाले, ख़ुदा ने रखा मुझे बेहाल लेकिन | दिखाना चाहता था चांदिनी रात उसको, उस रात रंग चाँद का था लाल लेकिन … Continue reading लेकिन

लाशें

हर तरफ पड़ी है लाशें | बेबस, बेशक खड़ी है लाशें | नंगी आँखें समुंदर गोया, आधी जली फुलझड़ी है लाशें | अपनी की क़बर कन्धों में लादे, बेख़ौफ़ मौत से बड़ी है लाशें | क़ुरबानी के नाज़-मीनार के तले, ज़िंदा मिसाल गड़ी है लाशें | सफ़ेद उड़ान कैदी वक़्त की, पैरों में हथकड़ी है … Continue reading लाशें

क्यों कहते हो मुझसे ?

क्यों कहते हो मुझसे के यार ना करो ? क्यों कहते हो मुझसे के प्यार ना करो ? खुद तो मांगते हो ख़ुदा से हज़ार आँखें, मुझसे कहते हो के आँखें चार ना करो | शौक़ है तुमको क़त्ल-ए-सर-ए-आम का, मुझसे कहते हो जान निसार ना करो | खुद तो मोज़ेचा बने फिरते हो जहान … Continue reading क्यों कहते हो मुझसे ?

शराफ़त छोड़ दी मैंने

कितनी बार कहूँ ? शराफ़त छोड़ दी मैंने | अब शराब नहीं पीता, उनके जैसे नहीं जीता | शराब तो शरीफ़ लोग पीते है | शराब पिके झूमते है | औरों की बातें करते है | गंदी-गंदी बातें | झूठ बोलते है | कभी शेर, कभी बंदर, कभी सुअर बन जाते है | अब शराब … Continue reading शराफ़त छोड़ दी मैंने

क्यों है ?

ऐसा ही है तो ऐसा क्यों है ? यह दुनिया है तो खिलौना क्यों है ? और अगर, यह खेल ही है मालिक | तो खेल इतना घिनौना क्यों है ? जब टूटकर बिखर ही जाना है | तो फिर यह सपना सलोना क्यों है ? सबको ही आता है बनना अजब, फ़िर यह तमाशा, … Continue reading क्यों है ?

क्या मैं सिर्फ एक औज़ार हूँ ?

हर तरफ़ भागता-दौड़ता, कभी मसरूफ, कभी बेकार हूँ क्या मैं सिर्फ एक औज़ार हूँ ? कभी इतना बड़ा धोखा, कभी घमासान वार हुँ | क्या मैं सिर्फ एक औज़ार हूँ ? लोग रोज़ खरीदते है मुझे, सस्ते दामों का बाजार हूँ| क्या मैं सिर्फ एक औज़ार हूँ ? मेरी इंसानियत कमज़ोर है, वहशत में बेशुमार … Continue reading क्या मैं सिर्फ एक औज़ार हूँ ?

कुछ ऐसे, कुछ वैसे

हर सु निफाक़ छायी है, कुछ ऐसे, कुछ वैसे | अँधेरी शफ़क़ आयी है, कुछ ऐसे, कुछ वैसे | चूस लो मेरे खून का आखरी क़तरा, दे दो मुझे ज़िंदगी का भी ख़तरा | बदल दिया है मेरे इस खून को लोहे से, और फिर, चुंबक से खिंचवाई है, कुछ ऐसे, कुछ वैसे | मेरे … Continue reading कुछ ऐसे, कुछ वैसे

कोई है कहीं

कहीं ज़मीन, आसमान कहीं | कोई है कहीं, कोई है कहीं | अँधेरे को सूरज नहीं दरकार, एक मचलती हुई लौ ही सही | कोई है कहीं, कोई है कहीं | तू ज़िंदा है तो यह कर अजब, उतार ला स्वर्ग को यहीं | कोई है कहीं, कोई है कहीं | हर दिल बदल सकता … Continue reading कोई है कहीं

कोशिश जारी है

हे राम, हे राम,हे श्याम, हे श्याम | बचाओ ! मामला भारी है, कोशिश जारी है | सिंग-किंग, गांधी-आंधी, चोर अधिकारी है, कोशिश जारी है | रात-दिन, सुबह-शाम, जिन-रम, श्याम-राम, सब आज्ञाकारी है, कोशिश जारी है | केस-ठेस, नोट-वोट, पैसा-वैसा, ऐसा सबने मारी है, कोशिश जारी है | पाना-खोना, खोना-पाना, खेल-खिलौना | सुपर ! ये … Continue reading कोशिश जारी है

कितने कमाल के है वह साहिर

बेवफाई करने में है वह माहिर, कितने कमाल के है वह साहिर | हमारा सब पूछ लेते है हाल, निकाल लेते है बाल की भी खाल | अपनी दास्ताँ नहीं करते पर ज़ाहिर, कितने कमाल के है वह साहिर | आ'उस की तरह देखते है आब, रक़्स फरमाते है लाजवाब | रक्स-ए-बिस्मिल उनका है ताहिर, … Continue reading कितने कमाल के है वह साहिर

ख़ुदा-ख़ुदा क्या करते हो ?

ख़ुदा-ख़ुदा क्या करते हो ? ख़ुदाखाने में आओ तो सही | यह तो इबादत का एक तरीका है, तुम मैखाने आओ तो सही | हम बहा देंगे दरिया तुम्हारे लिए, तुम भी वो ज़माने लाओ तो सही | यह भी खुदा की ही ईजाद है, तुम भी यह निवाला खाओ तो सही | तुम्हारी भी … Continue reading ख़ुदा-ख़ुदा क्या करते हो ?

कौन ?

लड़ के ग़म से जीत सकता है कौन ? बिना नशे के जी सकता है कौन ? आज तो बिन पीये ही मदहोश हो गया, यादों को इस दिल से छीन सकता है कौन ? कौन है जो मुझे अपना बनाये ? फिर से ज़िंदा कर सकता है कौन ? निकाल के ज़हर को इस … Continue reading कौन ?

कल रात मेरी मौत हो गयी

कल रात मेरी मौत हो गयी, ज़िंदगी ने झुकाया सर मेरा | ऐसा तो सिर्फ मेरे ही साथ हुआ, बारिश ने जलाया घर मेरा | उसी ने दिए ज़ख्म पे ज़ख्म, बना फिरता था जो चारागर मेरा | मैं पाना चाहता था खोने को, कुछ ना हो सका मगर मेरा | अजब, ख़ुदा से मुलाक़ात … Continue reading कल रात मेरी मौत हो गयी

कहाँ से कहाँ तक

कहाँ से कहाँ तक आ गए हम, साहिल से तूफ़ान तक आ गए हम | ज़िंदगी का साथ तो निभाया बोहोत, पर चाहत से नफ़रत तक आ गए हम | जिसे दिया था साज़ दिल का, वह क्यों बैठा है अपने होंठ कर बंद ? जाने क्या कमी थी गीतों में, महफ़िल से वीराने तक … Continue reading कहाँ से कहाँ तक

कोई

मोहब्बत भरी दास्ताँ सुना रहा है कोई | ज़िंदगी को कब्रिस्तान दिखा रहा है कोई | छिल गए है कदम सजदा-ए-यार में, इस नास्तिक को देवस्थान दिखा रहा है कोई | बीत गयी सारी उम्र क़त्ल करते-करते, ज़माने बाद पाक-ए-स्तान दिखा रहा है कोई | भूल गए है रास्ता वतन की तिजारत में अजब, आखरी … Continue reading कोई

किसी हथेली की मैल

किसी दिल की धड़कन बनकर चूर हुआ, किसी हथेली की मैल बनकर दुर हुआ | वक़्त से पहले ही मेरी जवानी पहुँच गयी, मेरे आने से पहले मेरी कहानी पहुँच गयी | किसी ज़रुरत की कीमत बनकर मजबूर हुआ, किसी हथेली की मैल बनकर दुर हुआ | ज़िंदगी इतनी वीरान हो गयी कर्म से, कांधो … Continue reading किसी हथेली की मैल

कहाँ जा रहे थे, कहाँ आ गए हम ?

कहाँ जा रहे थे, कहाँ आ गए हम ? आँखों से प्यार छलक गया, घिर आये सौ ग़म | वो अजब जो सिखाता था दूसरों को जीना, आज खुद ही ज़िंदगी की राह में हो गया है गुम | अगर यही जीना है, तो ज़िंदगी की शमा जलाये रखेंगे | उन्हें खो कर भी, उन्हें … Continue reading कहाँ जा रहे थे, कहाँ आ गए हम ?

कब रोका था

बारिशों ने, तूफानों ने, कब रोका था | मैंने आपको मुझे बुलाने से कब रोका था | कारवां मोहब्बत का राह में छूट गया, मुझे कोई मेरा अपना ही लूट गया | आहों ने, बाहों ने, कब रोका था | मैंने आपको मुझे बुलाने से कब रोका था | एक बेगुनाह मुजरिम की तरह करता … Continue reading कब रोका था

काश

काश मैं जूती होती, तो आपके पैरों में होती | काश मैं धड़कन होती, तो आपके सीने में होती | काश मैं लिपस्टिक होती, तो आपके होठों पर सजता | काश मैं घुंघरू होता, तो आपके पैरों में बजता | काश मैं साड़ी होता, तो आपसे लिपट जाता | काश मैं तकिया होता, तो आपके … Continue reading काश

झूठा ख़ुदा

झूठा ख़ुदा बने रहने में बुरा क्या है ? ख़ुदा से जुदा बने रहने में बुरा क्या है ? सारी दुनिया सजदे कर रही झूठी-मूठी, थोड़ा बेहुदा बने रहने में बुरा क्या है ? मिल रहे है हर एक को रोज़-रोज़ जलवे अजब, थोड़ा गुमशुदा बने रहने में बुरा क्या है ? वैसे भी लोग ढूंढ … Continue reading झूठा ख़ुदा

जे रब्बा इश्क़ ना होए

क्या मज़ा जीने में ओये ? जे रब्बा इश्क़ ना होए | कौन तैरे, कौन डुबोये ? जे रब्बा इश्क़ ना होए | ना कोई जागे सारी रात, ना कोई दिन को सोये | जे रब्बा इश्क़ ना होए | कैसे दिल में आग लगे ? कैसे मीठे तीर चुभोए ? जे रब्बा इश्क़ ना … Continue reading जे रब्बा इश्क़ ना होए

जन्मदिन मुबारक हो

जन्मदिन मुबारक हो मेरे मीत | तुमने दिल सबका लिया जीत | तु ही मन में, तु ही तन में, तु ही प्यार, तु ही प्रीत | तुझसे है सब रंग जहान के, तु ही संसार की मीठी रीत | सिर्फ एक मैं ही नहीं अजब, तेरी अदा भी जग से विपरीत |

यह उस वक़्त की बात है

यह उस वक़्त की बात है जब इश्क सच्चा हुआ करता था | यह उस वक़्त की बात है जब इश्क हुआ करता था | उसको देखते ही मौसम रंगीन, और सेक्शन गरम हो जाता था | उस से बस एक गुफ़्तगू की, बस एक गुफ़्तगू की दुआ करता था | आज फेसबुक पर अनफ्रेंड … Continue reading यह उस वक़्त की बात है

जल पड़ी मेरी दिल की मशाल

उसने लौ जला दी हमदर्दी की, छू कर रूह को कर दिया कमाल | उस ने जो पहनाई शॉल ठण्ड में, जल पड़ी मेरी दिल की मशाल | हाथ भागने लगे, पैर ने दुआ मांगी, ऐसा भी होता है, होता है हाल | जल पड़ी मेरी दिल की मशाल | मैं शुन्य, मेरा शुन्य, बदल … Continue reading जल पड़ी मेरी दिल की मशाल

जब मेरे हाथ खली थे

कुछ सपने हक़ीक़त, कुछ जाली थे | मैं तब बर्बाद हुआ जब मेरे हाथ खली थे | एक साफ़ दिल लेकर कितने पाप हो गए, कितने नाज़ुक फूल, कितने क़ातिल माली थे | एक-एक करके वह हर लकीर ले गया | शायद, सारे मेरे अरमान खयाली थे | सारी अला तो वही ले गया अजब, … Continue reading जब मेरे हाथ खली थे