एक पिंजरा सोने का

सबसे अलग मेरा घर है,
वो मकान कोने का |
ये मेरा घर है, एक पिंजरा सोने का |

मेरे घर की दीवारें सुनहरी है,
और एक नायाब सा झूला सोने का |
ये मेरा घर है, एक पिंजरा सोने का |

सोने की सलाखों से देखता हुँ गगन,
वही मिलेगा जो नतीजा है बोने का |
ये मेरा घर है, एक पिंजरा सोने का |

एक दरवाज़ा और सौ खिड़कियाँ,
और एक आइना रोने-धोने का |
ये मेरा घर है, एक पिंजरा सोने का |

मेरे पैरों में बंधे है सुनहरे घुंघरू,
ये ज़ंजीर है फर्क, सच होने ना होने का |
ये मेरा घर है, एक पिंजरा सोने का |

शायद में कभी ना आज़ाद हो पाऊं,
लगता है ये मांजरा जादू-टोने का |
ये मेरा घर है, एक पिंजरा सोने का |

खत्म हो जायेगी बात मेरी-तुम्हारी,
खेल ना कभी खत्म होगा खिलोने का |
ये मेरा घर है, एक पिंजरा सोने का |

 

7 thoughts on “एक पिंजरा सोने का

Leave a Reply