अभी ग़म सोया है

एक ग़ज़ल लिख लूँ, अभी ग़म सोया है |
हाल-ए-दिल लिख लूँ, अभी ग़म सोया है |

उठेगा तो ये सर पे उठालेगा मेरा जहान,
कागज़ पे कहानी लिख लूँ, अभी ग़म सोया है |

उसने कहीं छुपा रखा है मेरा नसीब,
अपनी ज़ुबानी लिख लूँ, अभी ग़म सोया है |

उसको भी तोहफ़ा दिया जाए, चौंकाया जाए,
उसकी भी कहानी लिख लूँ, अभी ग़म सोया है |

2 thoughts on “अभी ग़म सोया है

Leave a Reply