दिल का

मेरी ग़ज़ल तराना है दिल का |
यह बातें फ़साना है दिल का |

बदल दो धंधा !
नहीं चलती दिमागों की दुकाने,
अब यह ज़माना है दिल का |

जिएँ तो जिएँ कैसे ?
सहज, सजग रहने में आसानी है,
यह रास्ता पुराना है दिल का |

शुक्रिया ख़ुदा !
ऐसी कोई शोहरत नहीं दिखती पर,
बहुत है ख़ज़ाना यह दिल का |

अजब हूँ,
कोई प्रसिद्ध घराना नहीं है मेरा,
मेरा घराना, घराना है दिल का |

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s