सालों ! जागो !

सालों ! जागो !
सालों से सो ही रहे हो |
बातों में खो ही रहे हो |
सालों ! जागो !

आग जो लायी थी हमने,
नफरत की,
वो अब हमें ही जला देगी |
वो अब हमें ही दागा देगी |
सालों ! जागो !

धंधा बना रखा है, यार,
बस सिर्फ एक ही बात आती है |
जीत और हार,
छोड़ो ना यार इसको,
बना रहे हो किसको ?
सालों ! जागो !

आपस में हम लड़ रहे है |
मासूम बच्चे मर रहे है |
क्या मौन का फायदा अब ?
जब अपने ही घर जल रहे है |
सालों ! जागो !

ओये ! हिंदुस्तान के रखवालों !
ओये ! पाकिस्तान के घरवालों !
सालों ! जागो !
देश मर रहा है |
सालों ! जागो !

प्रेम से ही हल है |
सिर्फ इसमें ही बल है |
लड़ना है ?
और लड़ना है ?
घर में ही छोटी-छोटी क़ब्र बना लो |
बरांदे में शम्शाम बना लो |
सालों ! जागो !

बच्चे पैदा कर लोगे,
उनको अमन कहाँ से दोगे ?
अपनी नफरत की आग से,
क्या उनको अग्नि दोगे ?
सालों ! जागो !

सोते ही रहते हो |
सालों ! जागो !
रोते ही रहते हो |
सालों ! जागो !

अपने ही हाथ है |
गर तू और मैं साथ है |
सालों ! जागो !
सालों ! जागो !

2 thoughts on “सालों ! जागो !

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s