रंडी

अगर लगती है ये गाली गंदी,
सोचो किस हाल में जीती है रंडी |

शाम का वक़त है |
मर्द का दिल सख्त है |
गालियाँ-शोर और भूखी निगाहें,
क्या-क्या नहीं सहती है रंडी ?

कभी शिकार है |
कभी व्यापार है |
कोठे की वो झंकार है |
दिन-रात नाचायी जाती है रंडी |

कहाँ से आती है ये ?
कोई खेल का मोहरा है |
काम-उत्तेजना की बलि,
समाज का ये चेहरा दोहरा है |

उस कमरे से धुआ निकलता है |
ज़ोर-ज़ोर से चीखें भी निकलती है |
पिंजरे में फसे जानवर जैसे,
बेहोशी में कर्रती है रंडी |

जग में बदनाम है |
पर मिलती आम है |
किसीका का तो दोष है ?
ये किसका काम है ?

सब सहती है |
एकदम चुप रहती है |
देवियों के देश में,
रोज़ बिकती है रंडी |

बड़े ही काम ही चीज़ है ये,
बड़ी ही गहरी कहानी है इसकी |
जग में इनको मेरा सलाम,
माँ, किसान, जवान और रंडी |

5 thoughts on “रंडी

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s