आपने फाड़ दी

सुना है के आपने फाड़ दी |
एक मिसाल, बेमिसाल गाड़ दी |

सब फ़कीरों की निकल पड़ी,
ज़रा सी जो आपने जेब झाड दी |

अब कोई नहीं होगा ग़म में,
आपने ग़म की जड़ उखाड़ दी |

कोई ना बचा पुरे मोहल्ले में अजब,
आपने तो सारी लड़कियां ताड़ दी |

 

2 thoughts on “आपने फाड़ दी

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s