ज़िंदगी से कोई फैसला हुआ ही नहीं

जिसने मुझको चाहा उसका ना हो सका,
जिसे मैंने चाहा वो मिला ही नहीं |
फिर आगे हौसला हुआ ही नहीं,
ज़िंदगी से कोई फैसला हुआ ही नहीं |

एक रात जो हर दिन को खा गयी |
नाजाने अकस्मात कहाँ से आ गयी ?

ऐसा बंजर किया चमकते गुलिस्तां को,
दरख्तों पे फिर घोसला हुआ ही नहीं |
फिर आगे हौसला हुआ ही नहीं,
ज़िंदगी से कोई फैसला हुआ ही नहीं |

मंज़िल ना दिखा के अब मुझे इसका शौक़ नहीं |
लिख रहा है जो वो अजब है कोई जोक नहीं |

राह में भटकाया चांदिनी से इस क़दर,
फिर दिल कोई सिलसिला हुआ ही नहीं |
फिर आगे हौसला हुआ ही नहीं,
ज़िंदगी से कोई फैसला हुआ ही नहीं |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s