वो सपना तेरा था

रंगों से बना एक सपना मेरा था |
यक़ीन है, वो सपना तेरा था |

लाल उँगलियों से बनायीं था जो चित्र,
यक़ीन है, वो अपना तेरा था |

हर रंग में मेरे सपने खिल गए |
कहीं राह में हम-तुम मिल गए |

आँखें बंद करते ही जो सामने आया,
यक़ीन है, वो चेहरा तेरा ही था |

मेरे रंग थे हरे, नीले और लाल |
वही रंगों ने पुछा मुझसे एक सवाल |

तस्वीर का वो शख्श खुदा बन गया,
इसलिए शायद वो मुझसे जुदा हो गया |

तस्वीर में जो ऐब था, शायद वो मेरा था |
पर यक़ीन है वो सपना तेरा था |
तेरा था, तेरा ही था

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s