प्रतिष्ठा

कभी सर, कभी ईमान,
प्रतिष्ठा |
कभी जन, कभी जहान,
प्रतिष्ठा |
कभी गुर्रोर,
कभी हट,
कभी अश्लील,
कभी मगरूर,
कभी मिथ्या,
कभी घायल,
प्रतिष्ठा |

मेरी प्रतिष्ठा, मेरी प्रतिष्ठा |
तेरी प्रतिष्ठा, तेरी प्रतिष्ठा |
कभी झूठ,
कभी कमाल,
प्रतिष्ठा |

अधनंगे बदन की छवि,
प्रतिष्ठा |
ज़ुल्मों से दबी,
प्रतिष्ठा |
राजपूतों के यंत्रों की,
प्रतिष्ठा |
भ्रमानों के मंत्रो की,
प्रतिष्ठा |
सिर्फ एक की नहीं,
सबकी है ये,
प्रतिष्ठा |

ये जलती है |
ये मिलाती है |
आग में देश को जलती है,
प्रतिष्ठा |

भूखों को खाना नहीं,
धनवान की जागीर है,
प्रतिष्ठा |
जोडती नहीं,
पर तुडवाने में माहिर है,
प्रतिष्ठा |

इतना खून बहा,
प्रतिष्ठा ?
इतने घर जले,
प्रतिष्ठा ?
लाल ही लाल चारों और,
प्रतिष्ठा ?
आग ही आग,
प्रतिष्ठा ?
क्या ये है,
प्रतिष्ठा ?

सताए, रुलाये, मिटाए, हटाये,
आग, आग, आग,
लगाये प्रतिष्ठा |
नोच-नोच के,
चुन-चुन के,
बलात्कार करे,
प्रतिष्ठा |

और फ़िर,
बलात्कार के खून से,
अपने माथे पे,
आह !
अपने माथे पे,
तिलक लगाये,
प्रतिष्ठा |

 

4 thoughts on “प्रतिष्ठा

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s