तुम ही मिलते तो अच्छा था

जहाँ फुल खिलते है,
वहीँ खिलते तो अच्छा था |
तुम से ही प्यार किया था,
तुम ही मिलते तो अच्छा था |

तुम ही हमसफ़र बन कर,
साथ चलते तो अच्छा था |
तुम से ही प्यार किया था,
तुम ही मिलते तो अच्छा था |

ज़ख्म जो तेरे प्यार के,
जल्दी ही सिलते तो अच्छा था |
तुम से ही प्यार किया था,
तुम ही मिलते तो अच्छा था |

मेरे आँखों के दीये,
तेरे लिए ही जलते तो अच्छा था |
तुम से ही प्यार किया था,
तुम ही मिलते तो अच्छा था |

इस सूखे शजर के,
पत्ते कभी हिलते तो अच्छा था |
तुम से ही प्यार किया था,
तुम ही मिलते तो अच्छा था

अजब के नाम की मेहँदी,
हाथ में मलते तो अच्छा था |
तुम से ही प्यार किया था,
तुम ही मिलते तो अच्छा था |

8 thoughts on “तुम ही मिलते तो अच्छा था

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s