तुझे देखा

कईं बार मैंने तुझे देखा,
सोहने यार मैंने तुझे देखा |
पर्बत की ऊचाइयों में,
समुंदर की गहराईयों में तुझे देखा |

जाम-ए-फना-ए-बेखुदी पीकर,
पैमाने में तुझे देखा |
इसतराब-ए-इंतज़ार में,
मैंने हवाओं में तुझे देखा |

फूलों की खुशबू में,
माहताब की चांदिनी में तुझे देखा |
धड़कन और साँसों में देखा,
पंछी बन आसमान में तुझे देखा |

चारों जानिब तू ही तू है,
ख़ुदा से बढ़कर तुझे देखा |
सब जगह तेरे ही जलवे देखे,
अजब में, गजब में तुझे देखा |

रोशन जमाल-ए-यार से है ज़िंदगी,
चिराग-ए-इबादत में तुझे देखा |
शीशे के जब सौ टुकड़े किये,
उनमें सौ-सौ बार तुझे देखा |

 

3 thoughts on “तुझे देखा

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s