तवायफ़

मैं हुँ तवायफ़, तवायफ़ मेरा नाम |
दुनिया में हुँ इसी नाम से बदनाम |

यहाँ की सीढ़ियाँ किसी घर में नहीं उतरती,
ये बाजार और ये कोठा है मेरा इनाम |

ये मर्द-ए-बाजार की मिलकियत है मुजरा ,
बिस्तर का सफर ग़ज़ल और कथक से गुज़रा |

मेरे आँगन की मिटटी से बनती देवी की मूरत,
और दुनिया की शराफत मुझ पर लगाती इलज़ाम |

तवायफ़ कहाँ किसी से मोहब्बत करती है ?
पर जब करती है तो क़यामत करती है |

हालात से बनी थी, मंज़िल से नहीं,
दिल में क्यों बिठाएँ ये खुसरा-ए-आयाम |

2 thoughts on “तवायफ़

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s