तलाश

who

सुख की चादर ओढ़े जहाँ ज़िंदगी मुस्कुराये |
अरमानों का खून ना हो,
हर सपना साकार हो जाए |
जहाँ अमन और प्रेम से भरा हो आकाश |
एक ऐसे ही जहान की मुझे है तलाश |

हम तो जहाँ गए मिली पत्थर की मूरत |
देखा तो पाया इंसान में हैवान की सूरत |

मुसाफिर हैं, चलना हमारा काम है |
इंसान तो मुकैय्यद है, सुख-दुःख की शाम है |

ऐसा मंज़र जहाँ कोई ना हो हताश |
एक ऐसे ही जहान की मुझे है तलाश |

क्या मजाल जो हँसी होठों को छू ले जनाब ?
ये क्या दुःख का जाल है और सुख का नक़ाब ?

आखिर कब तक उठाएंगे ज़िंदगी की लाश ?
एक ऐसे ही जहान की मुझे है तलाश |

शफ़क़ का मरासिम सूरज से, सदियों से है |
चांदिनी का मरासिम माहताब से, सदियों से है |
वक़्त का मरासिम रेत से, सदियों से है |
प्यार का मरासिम अजब से, सदियों से है |

छोडो जात-पात के झूठे फसाब,
एक पल या इतिहास बनो |
कुछ भी बनो मुबारक है,
पर पहले एक अच्छा इंसान बनो |

तमन्ना है मुझे एक ऐसे मंज़र की,
जहाँ हो सब जलाश |
एक ऐसे ही जहान की मुझे है तलाश |

 

6 thoughts on “तलाश

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s