सोचो

सोचो अगर बर्फ काली होती,
गंगा खाली होती |
कितना मज़ा आता अगर,
अमीरी कमज़ोर और गरीबी शक्तिशाली होती |

सोचो अगर दिल की जेब खाली होती,
ना होठों पर गाली होती |
कितना मज़ा आता अगर,
पृथ्वी मेरी बीवी और चाँद मेरी साली होती |

सोचो अगर पूरी थाली होती,
खाने को रोटी रुमाली होती |
कितना मज़ा आता अगर,
पेट ही ना होता और ये हकीक़त जाली होती |

सोचो अगर मैं बाग़ होता,
कायनात माली होती |
कितना मज़ा आता अगर,
हर दिन होली और हर रात दिवाली होती |

 

4 thoughts on “सोचो

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s