शहर में आपके

सुना है बहुत वफ़ा है शहर में आपके |
ऐसा भी क्या जादू है शहर में आपके ?

मैंने तो आज़मा ली अपनी किस्मत वहाँ भी,
पर संग दिल सनम है शहर में आपके |

सुना है वहाँ चांदी के कमल खिलते है |
पर वहाँ सादगी भरे चेहरे कम मिलते है |

सुना है वहाँ हकीकत बहुत है नायाब,
पर मैंने तो पाया वफाओं के बदले अज़ाब |

करके देख ली वफ़ा मैंने शहर में आपके |
पत्थर ही पत्थर है शहर में आपके |

सुना है वहाँ सुख ही सुख है, ग़म नहीं,
पर वहाँ उल्फत की कीमत भी कम नहीं |

सुना है वहाँ आईने बोलते है,
पर वहाँ लोग दिल को सोने-चांदी से तोलते है |

छोड़िये, कुछ भी नहीं है शहर में आपके |
सब के सब अजब है शहर में आपके |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s