शराबी-शराबी

मुझे शराबी-शराबी मत कहो |
आदमी मजबूरी में पीता है |

चाहे कितनी भी अग्निपरीक्षा दे दे,
दुनिया की नज़र में तो बुरी सीता है |

एक ही इंसान हरिउल्लाह मिला था,
कलयुग में बेचारा बेताब ही जीता है |

तू भी ज्ञानी, मैं भी ज्ञानी, क्या फर्क ?
किसी की क़ुरान और मेरी किताब गीता है |

कही दूर छुपकर, पीकर, वो ख़ुदा भी,
दर्द से फटा अपना हिजाब सीता है |

 

One thought on “शराबी-शराबी

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s