नहीं देखा

कभी कोई नयी ख़ुशी को नहीं देखा |
तेरे बाद फिर किसी और को नहीं देखा |

सब ही मसरूफ थे अपने भ्रम में,
अश्क़-ए-साद को किसी ने नहीं देखा |

हर आँखें देख रही थी आतिशबाज़ी,
मेरी नज़र की ओर किसी ने नहीं देखा |

सिर्फ मशहूर हुए राँझा और महिवाल,
मेरी जुर्रत को किसी ने नहीं देखा |

आज पहली बार देख हैरान हो गया,
दिल के इतने ज़ख्मों को नहीं देखा |

ये आखरी मुलाकात है—कहा उसने,
और तमाम उम्र मुड़ के नहीं देखा |

मेरे मुंसिफ ने दिया मुझे उम्र-ए-ताज़िर,
खुद अपने फर्द-ए-जुर्म को नहीं देखा |

नौ गिरफ्तार-ए-बला बना दिया फ़ारयाल को,
और मुड़ के तर्ज़-ए-फ़ुग़ाँन को नहीं देखा |

 

2 thoughts on “नहीं देखा

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s