मुअम्मा

मैं भी मुअम्मा, तू भी मुअम्मा |
जान भी मुअम्मा, रूह भी मुअम्मा |

क्या नाज़ करूँ हाल-ए-ज़ीस्त का ?
हकीकत भी मुअम्मा, आरज़ू भी मुअम्मा |

रात भी मुअम्मा, बात भी मुअम्मा |
ख़ुदा भी मुअम्मा, कायनात भी मुअम्मा |

इस जगह का हिसाब कितना अजब है |
सब लोग मुअम्मा, हर तरफ मुअम्मा |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s