मिलता नहीं रास्ता

कहाँ जाएगा मुसाफिर ? मिलता नहीं रास्ता |
किस जानिब चलें ज़ीस्त ? मिलता नहीं रास्ता |

कितनी झूठी कसम, और वादा कितना है सस्ता,
कैसे सफर मुक्कमल हो ? मिलता नहीं रास्ता |

नीचे ज़ुल्म-ए-ज़लज़ला, ऊपर खुदा हँसता,
किसके पीछे चलें ? मिलता नहीं रास्ता |

उसके हाथ में है तलवार जिसे दिया गुलदस्ता,
कहाँ खो गयी है शफ़क़ ? मिलता नहीं रास्ता

हर बार ये दिल दिल्लगी करके फसता है अजब,
किस जानिब चले ज़ीस्त ? मिलता नहीं रास्ता |

 

2 thoughts on “मिलता नहीं रास्ता

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s