मेरे जैसा ही था

पाप की गोद से जन्मा एक तारा,
वो तारा जो मेरे जैसा ही था |
वो भी था संसार से हारा,
वो तारा मेरे जैसा ही था |

भीख और उधार थी उसकी ज़िंदगी,
उसका हिसाब मेरे जैसा ही था |
दुनिया के एक हज़ार सवालों पर,
उसका हर जवाब मेरे जैसा ही था |

हरी काई थी ज़मीन उसकी,
उसका रास्ता मेरे जैसा ही था |
मेरी तरह वो भी था अकेला,
उसका वास्ता मेरे जैसा ही था |

सावन-बाधो में वो ना सोया,
टूटा कोई हिस्सा मेरे जैसा ही था |
जो खोया था उसने भी,
वो किस्सा मेरे जैसा ही था |

हर रास्ते आधे ही चले,
उसका हर किनारा मेरे जैसा ही था |
अपने प्यार की खातिर जो बनाया,
वो मिनारा मेरे जैसा ही था |

कुछ दिन चमका गर्दिश में,
उसका अजब हाल मेरे जैसा ही था |
तरसता रहा वो भी प्यार को,
बेदिल-बेहाल मेरे जैसा ही था |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s