मैं इंसान हूँ

मैं इंसान हूँ, मेरा मज़हब कोई नहीं है |
मैं इंसान हूँ, इसमें गज़ब कोई नहीं है |

मैं ही मैं हूँ, चारों जानिब,
मैं ही ख़ुदा हूँ, मेरा रब्ब कोई नहीं है |

मैंने बनाया और फिर मैंने मिटाया |
मैंने काटा और मैंने ही कटाया |

मैं ही क़त्ल हूँ, क़ातिल भी मैं,
मैं इंसान हूँ, मेरा सबब कोई नहीं है |

दुनिया को देखता हूँ सर के बल,
मैं इंसान हूँ, मुझसा अजब कोई नहीं है |

3 thoughts on “मैं इंसान हूँ

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s