मैं ही गुन्हेगार नहीं

remember-me

तुम भी शामिल हो, मैं ही गुन्हेगार नहीं |
तुम क्यों मेहमिल हो ? मैं ही गुन्हेगार नहीं |

एक वार तुमने किया, एक वार किया मैंने,
तुम भी घायल हो, मैं ही फ़िगार नहीं |

मिले क्यों मुझे ही कफ़न का इनाम खुदा से ?
तुम भी बिस्मिल हो, मैं ही निगार नहीं |

वक़्त क्यों मुतहम्मिल हो ? मैं ही गुन्हेगार नहीं |
तुम भी शामिल हो, मैं ही गुन्हेगार नहीं |

2 thoughts on “मैं ही गुन्हेगार नहीं

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s