यूँही

खत्म कर दो सब प्यार के किस्से तुम, यूँही |
जी लेने दो मुझे ख्वाब-ए-गफलत में, यूँही |

तुम आज आयी हो जब मेरे हाथ खाली है ?
ले जाओ और कुछ नहीं तो मेरी जान तुम, यूँही |

इन सपनों से कोई पूछे की नींद से दोस्ती क्यों है ?
इस मायूसी से कोई पूछे की दिल से दोस्ती क्यों है ?

घिर आते है जब भी बादल ग़म के,
याद बहुत, बहुत आती हो तुम, यूँही |

रिंद हुँ, शराब मेरा मज़हब है |
सुबह से शाम तक की ये मदहोशी अजब है |

बस ! एक बार फिर तुम्हे देखना चाहता हूँ,
कभी ज़ाहिर या कभी छुपकर दिखना तुम, यूँही |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s