मैं आदमी

आज़ाद देश का ग़ुलाम बंदा हूँ |
मैं इंसान नहीं, एक धंधा हूँ |

चुप रहो तो कहते है मुझे खुदगर्ज़,
लड़ता हुँ तो कहते है के खून गंदा है |

कहाँ है जलाना मेरे बस में ?
मैं सूरज नहीं, चंदा हूँ |

मुझे में नहीं है झूठ बोलने का ढंग,
मैं आदमी ही अजब बेढंगा हूँ |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s