मुझे वह सब याद है

मुझे वह सब है याद जो कभी हुआ ही नहीं |
वह एक आशियाँ आबाद जो कभी हुआ ही नहीं |

मुझे वह सब याद है तेरे-मेरे तालुकात,
और वह एक इत्तिहाद जो कभी हुआ ही नहीं |

मुझे वह सब याद है तेरी हिचकिचाहट,
और वह संग, फुवाद जो कभी हुआ ही नहीं |

मुझे वह सब याद है, वो रूठना- मनाना, अजब,
और एक रिश्ता, विदाद जो कभी हुआ ही नहीं |

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s