लाशें

हर तरफ पड़ी है लाशें |
बेबस, बेशक खड़ी है लाशें |

नंगी आँखें समुंदर गोया,
आधी जली फुलझड़ी है लाशें |

अपनी की क़बर कन्धों में लादे,
बेख़ौफ़ मौत से बड़ी है लाशें |

क़ुरबानी के नाज़-मीनार के तले,
ज़िंदा मिसाल गड़ी है लाशें |

सफ़ेद उड़ान कैदी वक़्त की,
पैरों में हथकड़ी है लाशें |

ये जला देगा गवाही अजब की,
ज़हरीली काली मड़की है लाशें |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s