Y-सिंड्रोम

Blog.jpg

मोहित का दिमाग भी उसकी वासना जैसा ही गरम और अस्थिर था | ये डूड तो कभी एक जगह पर टिकता ही नहीं था | कभी इस डाल तो कभी उस डाल, कभी इधर डाल तो कभी उधर डाल |

क्या ?

अपनी नाक |

आप क्या समझ बैठे ?

लेकिन दिमाग में – इस उम्र में – गंद और मस्ती होना नेचुरल है | वैसे ही जैसे मोहित की ये गंदी और मस्ती भरी कहानी |

देर रात हो गयी थी | काफ़ी सेहत भरे जामों के बाद मोहित अपने नए-नवेले हिल रोड वाले किराये के मकान में बैठा पुरानी यादों में खो गया | मोना, शैली, सिम्मी, जेनी, कृति, माया, ज़ेनोबिया, मुस्कान, राधा, उर्वशी और कामवाली बाई चंपा को गिन के नजाने कितनी और एक्स की याद उसको मुक्के मार रही थी |

बेचारे ने सबके मुक्के-लाते ही खायीं थी |

पर बिस्तर पे प्रेम-सुधा बरसने के बाद |

किसी भी लड़की के साथ टिक ही नहीं पा रहा था और एक ने तो कस के थप्पड़ के साथ दिमाग के डॉक्टर के पास जाने की फ़ोकट की सलाह भी दे दी थी | दिमाग काफ़ी परेशान था तो उसने सोचा की अपनी साइकोलोजिस्ट फ्रेंड से बात कर ही ली जाए | सीन संगीन था और रात रंगीन थी | ऊपर से साइकोलोजिस्ट फ्रेंड ने कभी भी कॉल करने की अनुमति दे राखी थी |

मति मारी गयी थी उसकी, शायद |

अब और ये दर्द सहेन नहीं हो रहा था तो मोहित ने ताव में आके फ़ोन लगा ही दिया अपनी साइकोलोजिस्ट फ्रेंड को |

हेल्लो डॉक्टर | हाऊ आर यू जानु ?

हैप्पी एंड गे !

हैं ? ये क्या होता है डॉक्टर ?

कुछ नहीं यार, बस बॉयफ्रेंड की आदत लग गयी है |

मस्त डाइलोग है यार डॉक्टर |

हाँ, ये उसका कॉपीराइट है |

अच्छा, मैं तो कुछ और ही समझा |

तुम्हारे दिमाग में तो हमेशा गंद ही रहता है मोहित | अच्छा बताओ फ़ोन कैसे किया ?

कैसी चल रही है तेरी झींगा-झांगी ?

ये तू अपने घटिया जोक्स कब बंद करेगा ?

ही ही, जल्द ही | पर ये बॉयफ्रेंड का क्या चक्कर है ? पहले वाला गया क्या ?

हाँ यार, ये नया है और टिकाऊ भी |

ये साले लोंडे कोई टिकाऊ-विकाऊ नहीं होते | सब धत्तिंग है |

नहीं यार, ये एकदम अलग ही है | तू बता, कैसे फ़ोन किया ?

यार, क्या बताऊ? पुरानी यादें सोने नहीं दे रही |

अच्छा. मतलब कोई पुरानी गर्लफ्रेंड साथ है क्या ? बोलो-बोलो ?

नहीं यार, कोई टिकती ही नहीं, यही तो प्रॉब्लम है |

टिकेगी कैसे मोहित ? तुम्हे तो खुद ही जल्दी भगानी होती है | तुम चाहते कहाँ हो एक जगह टिकना  या एक को टिकाना ?

नहीं-नहीं डॉक्टर, एसा नहीं है |

घंटा |

क्या यार तू भी !

मोहित, तुम सब कुछ इतना जल्दी कर लेते हो की आगे कुछ करने या जानने के लिए रहता ही नहीं है | तुम प्रेम-रिश्ते का सारा जूस इतना जल्दी पी लेते हो की फिर तुम बोर हो जाते हो |

पर डॉक्टर, प्रेम-रिश्ते में इसके अलावा कुछ और भी होता है क्या ?

शिट, घटिया बंदे हो तुम यार मोहित |

मुझे प्लीज़ समझाओ डॉक्टर | ये क्या हो रहा है मेरे साथ ?

बस, यही तेरा प्रॉब्लम है | सब लड़कयाँ थोड़ी ही दिनों में समझ जाती है के तुझे सिर्फ उनको साथ सेक्स ही करना है | पर यार, ये सिर्फ तेरी प्र्ब्लेम नहीं है | इसे Y-सिंड्रोम कहते है |

हैं ? ये क्या होता है डॉक्टर ?

तो मर्दों में Y-क्रोमोसोमस होते है | ये उनका एक चरित्र है |

अब बातों में गर्माइश आने लगी | मोहित चुप हो गया |

सेक्शन गरम होने लगा तो वो कल्पनाओं की दुनिया में खो गया | डॉक्टर और अपने प्रेम-सीन को सजाने ही लगा था के डॉक्टर ने बीच में फांदा मार दिया |

हेल्लो ! मोहित कहाँ खो गए

सॉरी, कहीं नहीं बस तेरी बात ही सुन रहा हूँ जानू |

हाँ, तो मैं ये बोल रही थी के Y-क्रोमोसोमस का एक चरित्र है | इसलिए तुम में उत्तेजना और जिज्ञासा ज्यादा है |

बाप रे ! सीडकटर, सॉरी, सो डॉक्टर, अब मैं क्या करूं ?

जैसे मैंने पहले भी कहा था, कुछ नया करो |

जैसे की ?

अगली बार अपने प्रेम-रिश्ते में जल्द-बाज़ी मत करो | मुझे ही ले लो…

चलेगा !

बकवास बंद करो | मेरा मतलब ये है के मेरा और मेरे बॉयफ्रेंड का किस्सा ही ले लो | हम इतने पास है पर फिर भी लगता है के कितना कुछ जान ने को बाकी है | मेरा बॉयफ्रेंड एकदम परफेक्ट नमूना है एक अच्छे मर्द का |

तो तेरा मतलब है के उसमें ये Y-सिंड्रोम नहीं है ?

नहीं ! वो तेरा जैसा वासना का पुजारी नहीं है | वो एक सीधा-साधा टाइप्स नमूना है |

वाह रे वाह ! लकी है यार तू डॉक्टर | पर मैंने भी अब एक नया प्रेम-रिश्ता बना ही लिया है |

वाह ! कौन है वो ?

अभी नहीं | थोड़े दिनों में सब पता चल जाएगा | बुरा नहीं मानना, पर मैं इन लड़कियों से तंग आ चूका था | इनके नखरे मुझसे सेहन नहीं होते | अब ये नए प्रेम-रिश्ते में ये सब झंझट ही नहीं है |

मोहित, क्या मतलब ? मैं समझी नहीं |

यार, मैंने बोहोत सोचा तो पता चला के मेरी रुचि लडकियों में अब नहीं रही | मैं कुछ नया ही करना चाहता हूँ |

मोहित, चक्कर क्या है ?

बोल रहा हूँ ना यार |

कौन मोहित ?

एक लड़का है |

क्या ?

येस ! आज ही मिला है | समझो लव एट फर्स्ट साईट है | वैसे भी वैरायटी इस द स्पाइस ऑफ़ लाइफ |

गुड बॉय |

कुछ गलत किया क्या डॉक्टर ?

नहीं | ये बिलकुल नॉरर्मल है पर ये प्रेम-रिश्ता बनाये रखना |

बिलकूल | तेरी बात अब मान ली है और ध्यान से काम करूँगा | तेरा और तेरे बॉयफ्रेंड के रास्ते पे चलूँगा |

गुड बॉय | चल अब मैं भी सोती हूँ | तेरा क्या सीन है ?

थैंक्स यार डॉक्टर | बस, वो आता हो होगा | फिर लूट ही लूट |

चलो ठीक है मोहित |

गुड-नाईट एंड वेट ड्रीम्स |

कुछ भी बकवास बोलता है यार तू मोहित | रखती हूँ |

गुड-नाईट |

बात करके मोहित का दिल गार्डन-गार्डन हो गया | मस्त एक लम्बा सेहत भरा का जाम लगया और अपने नए यार के आने की तय्यारी में लग गया |

थोड़ी देर में यार आ गया और दोनों ने खूब जमके पार्टी की |

रात काफ़ी रंगीन गुजरी होगी | उठते ही एक दुसरे को प्यार भरी आँखों से देखने लगे | मोहित खुश था | ना लड़कियों वाले नाटक ना वो रूठना-मनाना | यहाँ तो सब सीधा और साफ़ था | बड़े ही प्यार से अपने नए प्रेमी से बात की |

जानू ! गुड मॉर्निंग |

हाँ यार, गुड मॉर्निंग, मोहित |

हाऊ आर यू जानु ?

हैप्पी एंड गे !

एक पल के लिए जैसे मोहित बेजान पुतला बन गया और फिर अगले ही पल मुस्कुराता हुआ अपने वैरायटी वाले स्पाइस उर्फ़ नए प्रेमी की बाहों में डूब गया |

 

One thought on “Y-सिंड्रोम

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s