क्यों कहते हो मुझसे ?

remember-me

क्यों कहते हो मुझसे के यार ना करो ?
क्यों कहते हो मुझसे के प्यार ना करो ?

खुद तो मांगते हो ख़ुदा से हज़ार आँखें,
मुझसे कहते हो के आँखें चार ना करो |

शौक़ है तुमको क़त्ल-ए-सर-ए-आम का,
मुझसे कहते हो जान निसार ना करो |

खुद तो मोज़ेचा बने फिरते हो जहान में,
मुझसे कहते हो कोई चमत्कार ना करो |

एक बूँद भी नहीं पीते हो शराब की अजब,
और मुझसे कहते हो की इंकार ना करो |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s