शराफ़त छोड़ दी मैंने

कितनी बार कहूँ ?
शराफ़त छोड़ दी मैंने |

अब शराब नहीं पीता,
उनके जैसे नहीं जीता |
शराब तो शरीफ़ लोग पीते है |

शराब पिके झूमते है |
औरों की बातें करते है |
गंदी-गंदी बातें |
झूठ बोलते है |
कभी शेर, कभी बंदर,
कभी सुअर बन जाते है |

अब शराब नहीं पीता,
उनके जैसे नहीं जीता |
शराब तो शरीफ़ लोग पीते है |

यह सब शरीफ़ है |
उजले कपड़ों में मैला दिल,
आमदनी छोटी पर बड़ा बिल |
सांप का बिल |
पीन के बाद सब सच बोलते है |

अब शराब नहीं पीता,
उनके जैसे नहीं जीता |
शराब तो शरीफ़ लोग पीते है |

शराबियों का ऊंचा नाम है |
चरित्र दोगला,
लंबी-चौड़ी शान है |
खुद शराबों में डूबे रहते है,
और दुसरे को कहते बेईमान है |
मिथ्या-चरित्र |

गोल-गोल बात करते है |
साफ़ पर पर्दा डालते है |
सारे पाप,
बाप-रे-बाप, करें है इन्होने |
वो भी रोज़ |
फ़िर शराफ़त की बात करते है |
यह बेईमान लोग,
देश को लूटते है |
गंदगी करते है |
बलात्कार तो रोज़ हो करते है |
कभी नारी, कभी देश है |
यह सब के बाद भी,
मंदिरों-मस्जिदों में लाइन लगते है |
वो भी ख़ास-पास लेकर |

यह सब शरीफ़ है |
मैं नहीं हूँ |
नाही बनना चाहता हूँ,
इन जैसा |

इसीलिए,
कितनी बार कहूँ ?
शराफ़त छोड़ दी मैंने |

2 thoughts on “शराफ़त छोड़ दी मैंने

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s