कुछ ऐसे, कुछ वैसे

हर सु निफाक़ छायी है, कुछ ऐसे, कुछ वैसे |
अँधेरी शफ़क़ आयी है, कुछ ऐसे, कुछ वैसे |

चूस लो मेरे खून का आखरी क़तरा,
दे दो मुझे ज़िंदगी का भी ख़तरा |

बदल दिया है मेरे इस खून को लोहे से,
और फिर,
चुंबक से खिंचवाई है, कुछ ऐसे, कुछ वैसे |

मेरे नाम पे लगी है चु की मात्रा,
आँखें खोले हो रही है सपनो की यात्रा |

खुद ही चुरा लिया ज़मीन-आसमान मेरा अजब,
अब ज़िंदगी उफ़क़ लायी है, कुछ ऐसे, कुछ वैसे |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s