कौन ?

लड़ के ग़म से जीत सकता है कौन ?
बिना नशे के जी सकता है कौन ?

आज तो बिन पीये ही मदहोश हो गया,
यादों को इस दिल से छीन सकता है कौन ?

कौन है जो मुझे अपना बनाये ?
फिर से ज़िंदा कर सकता है कौन ?

निकाल के ज़हर को इस दिल से,
आँखों से बहा सकता है कौन ?

सूख गए जो दरख़्त के पत्ते,
छाँव उनकी पा सकता है कौन ?

उजड़ गया जो कोई आशियाँ,
उसमें बहार ला सकता है कौन ?

ये जो अँधेरे है रह-ए-इंसान में,
रोशन उनको कर सकता है कौन ?

जो शीशा टूट कर बिखर जाए,
सूरत अपनी देख सकता है कौन ?

मेरे गुज़र जाने से हर बज़्म वीरान हो,
फिर जग में अजब बन सकता है कौन ?

 

2 thoughts on “कौन ?

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s