कोई

who

मोहब्बत भरी दास्ताँ सुना रहा है कोई |
ज़िंदगी को कब्रिस्तान दिखा रहा है कोई |

छिल गए है कदम सजदा-ए-यार में,
इस नास्तिक को देवस्थान दिखा रहा है कोई |

बीत गयी सारी उम्र क़त्ल करते-करते,
ज़माने बाद पाक-ए-स्तान दिखा रहा है कोई |

भूल गए है रास्ता वतन की तिजारत में अजब,
आखरी वक़्त में नक़्शा-ए-हिन्दुस्तान दिखा रहा है कोई |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s