कहाँ जा रहे थे, कहाँ आ गए हम ?

कहाँ जा रहे थे, कहाँ आ गए हम ?
आँखों से प्यार छलक गया, घिर आये सौ ग़म |

वो अजब जो सिखाता था दूसरों को जीना,
आज खुद ही ज़िंदगी की राह में हो गया है गुम |

अगर यही जीना है,
तो ज़िंदगी की शमा जलाये रखेंगे |
उन्हें खो कर भी,
उन्हें पाने की उम्मीद लगाये रखेंगे |

ख़ुशी एक साया है,
हँसते ही आँखें हो जाती है नम |
पर जब सूरज ढल जाता है,
साया हो जाता है गुम |

मौत ने सिखाया है ज़िंदगी को जीना |
ग़म ने सिखाया है अनवर को पीना |

काँटों ने सिखाया है फूलों को खिलना |
हवाओं ने सिखाया है शाखों को हिलना |

अंधेरों ने दिया है सुबह को उजाला |
इसी प्यार ने निकाला है मेरा जनाज़ा |

इंतज़ार-ए-सबा में है अब हम,
कहाँ जा रहे थे, कहाँ आ गए हम ?

 

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s