कब रोका था

बारिशों ने, तूफानों ने, कब रोका था |
मैंने आपको मुझे बुलाने से कब रोका था |

कारवां मोहब्बत का राह में छूट गया,
मुझे कोई मेरा अपना ही लूट गया |

आहों ने, बाहों ने, कब रोका था |
मैंने आपको मुझे बुलाने से कब रोका था |

एक बेगुनाह मुजरिम की तरह करता रहा,
मैं अपनी कारवाही,
पर ओ बेवफा, मुझे तेरी उल्फत राज़ ना आई |

आँसुंओं ने, न निगाहों, ने कब रोका था |
मैंने आपको मुझे बुलाने से कब रोका था |

कल रात पैमाने में तेरी तस्वीर को डुबो दिया,
मैंने ख़ुद ही तेरी आशिकी को डुबो दिया |

शराबों ने, पैमानों ने, कब रोका था |
मैंने आपको मुझे बुलाने से कब रोका था |

 

5 thoughts on “कब रोका था

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s