जब भी ये दिल उदास होता है

evening

जब भी ये दिल उदास होता है,
कोई आस-पास नहीं होता है |
ज़माने में अक्सर दर्द देता वही है,
जो अपना बहुत ख़ास होता है |

इंसान से बेहतर तक़दीर पत्थर की है |
उसे क्या पता ग़म क्या होता है ?

कोई जीते जी फना कर देता है,
कोई छोड़ देता है हाथ बढाकर,
जिनकी उम्र गुज़री हो जुर्म में,
उन्हें क्या पता इंसाफ क्या होता है ?

कोई शराब में डूबता है, कोई इश्क़ में,
किसी को होता है दौलत का जूनून,
कोई करता है किसी के अरमानो का खून |

जो चले गए खुदा के घर में, ए अजब,
उन्हें क्या पता ज़िंदगी का हिसाब क्या होता है |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s