काला सूरज

black-sun.jpg

लहू के नाम अलग-अलग अनेक है,
पर हम दोनों के लहू का रंग एक है |

अमीरों के लिए है अय्याशी और राशन |
गरीबों के लिए सिर्फ उम्मीदें और आश्वासन |

क़तार में से चुप-चाप धीरज निकल आया |
सुबह होते ही एक काला सूरज निकल आया |

यहाँ सत्ता, सट्टेबाज़ों की रेत की है |
खेल में मंझी हुई मिटटी खेत की है |

मुफ्त की मिली आज़ादी का कोई दाम नहीं |
गीता-क़ुरान की शिक्षा का यहाँ कोई काम नहीं |

गोरों के हाथों फिर नीलाम हो गयी |
आज़ाद धरती फिर ग़ुलाम हो गयी |

सौदागरों ने बनाया है कालचक्र,
इस युग का क्या करेगा ये दिल बेहाल फक्र |

नीरस पत्तों का एक वृक्ष नीरज निकल आया |
सुबह होते ही एक काला सूरज निकल आया |

प्रदर्शन का है ये खेल-तमाशा |
सूली पे लटकी है कहीं आशा |

माँ की ममता है नीर भिगोती,
इंसान छीन रहा है जानवर की रोटी |

ज़म और ज़मीन का तीव्र कारोबार |
कैसे खामोश है ये नर-नार ?

साम, दाम, ढंड, भेद फिर गरज निकल आया |
सुबह होते ही एक काला सूरज निकल आया |

हर जुबान बोल रही है चाणक्य नीति,
मैली गंगा माँ लोगों के पाप है पीती |

हिंसा की जड़ पर महात्मा की तस्वीर छाप दी |
दौलत और मोहबत एक पलड़े में नाप दी |

सीमा पर अंजान मौत मर रहे है रक्षक,
अंजान नियति बेच रहे देश के भक्षक |

गफलत और धोखे का ये देश हो गया |
प्रजातंत्र रास्ते में शेष हो गया |

कहीं कचरे के ढेर से मिरज निकल आया |
सुबह होते ही एक काला सूरज निकल आया |

 

4 thoughts on “काला सूरज

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s