जब आप से मिला

meeting.jpg

ख़ामोश आँखों से सब सूना दिखता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

नाम हज़ारों की भीड़ में नुख्ता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

हर कदम पे चलता था, रुकता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

पहले बाज़ारों में नहीं बिकता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

मेरे हिस्से का हिसाब नहीं चुकता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

हाल-ए-रूदाद पन्नो में लिखता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

हर मंदिर-मस्जिद पर सर झुकता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

कहीं से याद आते उनकी चीखता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

हर वक़्त ये दिल अजब दुखता था,
जब आप से मिला, अंजुमन में आ गया |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s