हाथ नहीं आती

butterfly

मेरी ख्वाइशें कभी मेरे साथ नहीं आती |
ये तितली की तरह कभी हाथ नहीं आती |

चलता ही रहता हुँ अपनी फरमाइश से,
राह के अंत पर मंज़िल हाथ नहीं आती |

एक सवाल करना था खुदा से मुझे,
कब से उसकी कोई हद् हाथ नहीं आती |

सोचता हूँ सबको अजब ही बना दूँ,
पर कोई नयी तरकीब हाथ नहीं आती |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s