दुनिया जीना चाहती है

god

दो-चार घूंट प्रेम के पीना चाहती है |
जैसे भी हो दुनिया जीना चाहती है |

भले नए ना मिले मौके रोज़-रोज़,
पुरानी-फटी तक़दीर सीना चाहती है |
जैसे भी हो दुनिया जीना चाहती है |

अपने अंदर हो न हो तस्वीर उसकी,
जगह-जगह मंदिर-मदीना चाहती है |
जैसे भी हो दुनिया जीना चाहती है |

बस एक वक़्त क़र्ज़ से मुक्त,
अपना चौड़ा सीना चाहती है |
जैसे भी हो दुनिया जीना चाहती है |

हाथ मैं कमल का फूल,
मन में वीणा चाहती है |
जैसे भी हो दुनिया जीना चाहती है |

अजब ही हाल है या ख़ुदा
घर में मूरत, बोतल में हसीना चाहती है,
जैसे भी हो दुनिया जीना चाहती है |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s