देर से आने का

late.jpg

बड़ा ही ग़म है अपने देर से आने का |
न जाने कौनसा सबब है देर से आने का ?

थोड़ा जल्दी आता तो उनसे मुलाक़ात हो जाती |
जुस्तजू थी जिसकी, उस मंज़िल से मुलाक़ात हो जाती |

बड़े सितमगर थे वो भी, इंतज़ार ना किया,
शायद उन्हें भी पता था हमारे देर से आने का |

वक़्त बेवफा ही रहा, हमने बेवफाई नहीं की |
वो खुद ही हमे छोड़ के गए, हमने बेवफाई नहीं की |

रचा रहे है मेहँदी हाथ में किसी और नाम से,
और कहने लगे—यही अंजाम है देर से आने का |

 

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s