छोटी सी बात थी

छोटी सी बात थी, फसाद हो गयी |
खुशाल ज़िंदगी बर्बाद हो गयी |

सारे जग को एक वजह मिल गयी,
तेरी-मेरी लड़ाई शाद हो गयी |

क्या तेरा भगवान ? क्या मेरा अल्लाह ?
छोटी सी बात थी, रूदाद हो गयी |

घर-घर, गली-गली, कफ़न-कफ़न,
खून-ए-जंग यहाँ आदाब हो गयी |

क़ैद थी नमरूद की रूह क़फ़स में,
तेर-मेरी मेहेरबानी से आज़ाद हो गयी |

पहले थी सबको दुश्मनी अजब से,
ग़ज़ल पढ़ने के बाद विदाद हो गयी |

One thought on “छोटी सी बात थी

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s