बेमौत ना मरे

बेमौत ना मरे, तो क्या मरे ?
मौत आकर भी ना मरे, तो क्या मरे ?

ज़िंदगी के पीछे इतना हंगामा क्या ?
खुद के लिए ना मरे, तो क्या मरे ?

बारिश में ही तो भीगने का मज़ा है
ऐसे ही मरे, तो क्या मरे ?

एक बाज़ी खेल ही लो आज मेरे साथ,
बिना हारे मरे, तो क्या मरे ?

मेरी बात मान के भले लगे अजब,
पीकर ना मरे, तो क्या मरे ?

2 thoughts on “बेमौत ना मरे

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s