मैं भूल ही गया नाम अपना मेरा

ग़म ही नहीं आज सपना मेरा,
तेरी आँखों में बनकर रहा अपना मेरा |

ज़हर से नहीं तो याद से ही मार जाते,
ना कांधों पे उठता शव अपना मेरा |

होश ही ना रहा, क्या लिखता मैं ?
ऐसा शायर अंदर का दफना मेरा |

मैं तो हो गया अब सारे जहान का,
सिर्फ हो ना सका खुद अपना मेरा |

सिर्फ तुझे ही लिखा फना होने तक,
एक ही काम, बस ! नाम जपना तेरा |

तेरे ही नाम से शाद हो गया अजब,
मैं भूल ही गया नाम अपना मेरा |

Thank you very much!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s